Fri. Dec 2nd, 2022

बिना संघर्ष के कुछ भी हासिल नही होगा। घर के बाहर की दुनिया मे सारी कार्यशैली ऐसी हो गई है कि हर कदम लगता है अंगारे पर रखना पड़ेगा। लोग पानी से ज्यादा तो आग पी जाएंगे। सफलता प्राप्त करने की जलन ऐसी होगी जो किसी जल से नही बुझेगी। आने वाले तीन चार साल में 78 प्रतिशत लोग घर से काम करने लगेंगे। तो तय है कि घर के वातावरण भी उबाल लेगा। पहले ही प्रेम संवेदना घर से गायब हो रही थी, अब व्यवसाय प्रवेश कर गया। वर्क फ्राँम होम नर्क फ्राँम होम मे कब बदल जाएगा पता नही लगेगा। इसलिए आप जिस भी क्षेत्र में हो कुछ मौलिकताएं अपने भीतर से ढूंढो। यह समय है। जब राजनेताओ के नारों मे यथार्थ ढूंढो जावेगा संतो के वाणी मे सत्य तलाशा जाए, नौकरशाहों के निर्णयों मे इेमान देखा जाए और अपने कर्म में निष्कामता उतारी जाए। सफल हो जाए तो अहंकार नहो और असफल हो जाएं तो अवसाद न हो। तो संघर्ष के मौहल में सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वाधिक भरोसा स्वंय पर करो और इस भरोसे को परमशक्ति से जोड़े।

Spread the love

Leave a Reply