Mon. Jul 15th, 2024

शुद्ध सात्विक भोजन से हमारे विचार धीरे धीरे सकारात्मक और पवित्र होने लगते है। इससे हमारा मनोबल और आत्मविश्वस बढ़ता है। मन में लगातार चलने वाले विचारों की नकारात्मकता धीरे धीरे खत्म होने लगते है। मन अगर शक्ति शालीहोगा तो शरीर की बीमारियों की तकलीफ हमें कम महसूस होती है। हम देखते है। किसी किसी का बीमारी में मनोबल कमजोर होने के कारण उनका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। और वे सब पर गुस्सा करने लगते है।

          मन शक्तिशाली तो दवाइयों का जल्दी असर
जैसे हमारे शरीर पर अन्न का असर होता है वैसा ही असर हमारे मन पर भी होता है। अन्न के अति सूक्ष्म कणों का असर हमारे मन की गतिविधियों पर होता है। हमारा मन शरीर से जुडे होने के कारण शारीरिक बीमारियों का असर मन पर भी होता है। अगर मन शक्तिशाली नही होगा तो यही सोचेगा कि मैं कभी ठीक नही होने वाला। इससे शरीर पर दवाइयों का असर कम दिखाई देता है। और अगर मन शक्तिशाली है। तो दवाइयां जल्दी असर दिखाने लगती है।

 

Spread the love

Leave a Reply