Sat. Feb 24th, 2024

जय नारायण प्रसाद की रपट…..

बेतिया: …………पुत्र के विवाह में दहेज लेना हमारे समाज का कोढ़ व कलंक है। जिसका परिणाम बहु व उसके परिवार के शारीरिक, मानसिक प्रताड़ना से लेकर हत्या व आत्म हत्या के रुप में सामने आता है। इस कंलक को मिटाने की दिशा में दहेज मुक्त विवाह को प्रोत्साहन देना समाज और सरकार का पावन कर्त्तव्य है। पश्चिम चम्पारण जिला के योगापट्टी प्रखंड के बल्डीहा गांव के एक युवक ने दहेज मुक्त विवाह कर समाज में एक नई चेतना जागृत किया है। उसकी इस पहल की चर्चा योगापट्टी प्रखंड क्षेत्र ही नहीं पूरे जिला में हो रही है। सभी युवक के प्रशंसनीय सुकृत्य की चर्चा करते नहीं अघा रहे हैं।
योगापट्टी थाना क्षेत्र के मच्छरगांवा महायज्ञ स्थल के दुर्गा मंदिर परिसर में एक पुत्र व पुत्री के माता पिता ने उनका विवाह महारानी दुर्गा को साक्षी मानकर दहेज मुक्त किया। ज्ञात हो कि नवलपुर थाना क्षेत्र के बल्डीहा गांव निवासी सुदामा यादव के पुत्र रामहुसीद यादव और योगापट्टी थाना क्षेत्र के गोलाघाट डुमरी गांव निवासी ठग यादव का पुत्री लखपति कुमारी बिना दहेज़ के परिणय सूत्र में बंध गए। दहेज़ मुक्त विवाह कर दोनो माता पिता और युवाओं ने समाज को संदेश दिया कि दहेज़ रुपी कलंक से मुक्ति तभी सम्भव है जब दृढ़ संकल्प और इच्छा शक्ति रखी जाए। ऐसे दंपत्ति को सरकार और प्रशासन उनके जीवन यापन की योजनाओं से प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है।

Spread the love

By Awadhesh Sharma

न्यूज एन व्यूज फॉर नेशन

Leave a Reply