Tue. May 21st, 2024

जिला प्रशासन की गुणवत्ता मस्त, बरसात हुई नहीं कि नव निर्मित पुलिया हो गई छतिग्रस्त

अधीक्षण अभियंता ने कहा दोषी बख्शा नहीं जाएगा

बेतिया : बड़ी घटना का दावत दे रही है, ह्यूमन पाइप पुलिया।मामला अवर प्रमंडल बेतिया का बताया गया है, किसी बड़ी घटना की बाट जोह रहा है विभाग। कार्य करने की समय अवधि भी समाप्त नहीं हुआ कि ध्वस्त होने लगा नव निर्मित ह्यूमन पाइप पुलिया। हमारे सूत्र बताते हैं कि किसी बड़ी घटना का दावत दे रहा है एलओ 30 रेलवे गुमटी से मंगुराहा बारी टोला जाने वाला हृमन पाइप पुलिया, जी….हां!! कहा जाता है कि सरकार आमजन की आवागमन की सुविधा के लिए एवं जल निकासी की सुविधा को दृष्टिगत सड़कों में ह्यूमन पाइप पुलिया का निर्माण करा रही है। जिससे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की सड़को को बाढ़ में बाढ़ का पानी क्षतिग्रस्त नहीं कर सके, लेकिन अभी बाढ़ का पानी कौन कहे, बरसात ही नहीं हुई अलबत्ता जिला प्रशासन की गुणवत्ता पूर्ण निर्माणकार्य की पोल खुल गई। ह्यूम पाइप पुलिया बरसात पूर्व क्षतिग्रस्त हो गई जो किसी बड़ी घटना का आमंत्रण दे रहा है। जानकर बताते हैं कि ह्यूम पाइप पुलिया निर्माण के समय उसमें कॉम्पेक्शन मजबूती के साथ किया जाता है। जिससे पथ बरसात से क्षतिग्रस्त नहीं हो सके। लेकिन अभी बरसात हुआ ही नहीं लेकिन यहां तो पुलिया क्षतिग्रस्त होने लगा इसी से अनुमान लगाया जा सकता है कि इस पथ के ह्यूम पाइप पुलिया की बरसात में क्या स्थिति रहेगी। इसका मालिक तो भगवान ही है। बताया जाता है कि प्रमंडल के अवर प्रमंडल बेतिया ने सरकार की महत्वकांक्षी योजना मुख्यमंत्री पथ अनुरक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत एलओ 30 रेलवे गुमटी से मंगुरहा बारी टोला, पथ का निर्माण 2 सितंबर 2022 से लेकर आगामी 1 जून 23 तक पथ का कार्य पूर्ण कर देना है। कांट्रेक्टर ने समय सीमा से पहले ही काम को पूर्ण कर दिया, जिस पथ की लंबाई 16 50 किमी जिसकी प्रकलित राशि 1,18,47,564 लाख रूपये है। जिसका रख रखाव 5 वर्ष तक के लिए 11 लाख 53 हजार ₹ 336 है कि इस समय अवधि में पथ अगर क्षतिग्रस्त होता है तो उसकी रिपेयरिंग किया जाएगा। जिसका कार्यकारी एजेंसी कार्यपालक अभियंता ग्रामीण कार्य विभाग है। इस रोड को बनने के दौरान देखने के लिए कनीय अभियंता, सहायक अभियंता, कार्यपालक अभियंता ,अधीक्षण अभियंता उसके अलावा कंस्ट्रक्शन कंपनी के अभियंता के समेत एसक्यूएम, एनक्यूएम समेत विभाग के वरीय पदाधिकारी निरीक्षण करते हैं, फिर भी काम कितना उच्च गुणवत्तापूर्ण हो पाता है, इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है, आखिर इसके पीछे कौन है… ऐसी एजेंसी या काम कर रही है। जिसे इतना जांच करने के बाद भी काम गुणवत्तापूर्ण नहीं हो पाता है। इस संदर्भ में सुनील कुमार कनीय अभियंता, मामले की जांच कर शीघ्र ही मेंटेनेंस कराया जाएगा। अगर इस संदर्भ में कांटेक्ट कार्य नहीं कर रहे हैं तो उनको भी कार्रवाई तो विभाग को लिखा जाएगा। सुनील कुमार कनीय अभियंता ने बताया कि संवेदक को निर्देशित किया गया है अविलंब काम को सुधार करें अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहें।रंजीत कुमार, कार्यपालक अभियंता, ने बताया कि मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। उपर्युक्त संदर्भ में अनील कुमार, अधीक्षण अभियंता ने बताया कि मामले की जांच कराकर शीघ्र ही कार्रवाई की जाएगी दोषी जो होंगे उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

Spread the love

By Awadhesh Sharma

न्यूज एन व्यूज फॉर नेशन

Leave a Reply