Sat. Jan 28th, 2023

बेतिया पुलिस अधीक्षक उपेंद्र नाथ वर्मा ने बताया कि हत्या का राजनीतिक और व्यवसायी कारण 

बेतिया: पश्चिम चम्पारण जिला के नरकटियागंज नगर परिषद क्षेत्र के नरकटियागंज महात्मा गाँधी मार्ग में 02 दिसंबर 2022 की शाम राजेश श्रीवास्तव नामक प्रॉपर्टी डीलर की हत्या कर दी गयी थी। उपर्युक्त हत्याकाण्ड में बेतिया पुलिस अधीक्षक उपेन्द्रनाथ वर्मा ने प्रॉपर्टी डीलर राजेश श्रीवास्तव हत्याकांड का उद्भेदन कर दिया है। उस मामला में एक सफेदपोश एवं चार अन्य गिरफ्तार किये गए हैं। उनके पास हथियार भी बरामद किया गया हैं। उपर्युक्त हत्याकांड के आरोपी जिम्मी उर्फ़ जीतेंद्र एवं निवर्तमान सभापति राधेश्याम तिवारी भी पुलिस की गिरफ्त में हैं। बेतिया एसपी उपेन्द्र नाथ वर्मा ने मामला का उद्भेदन कर मीडिया को बताया कि राजेश की हत्या राजनीतिक और व्यवसायिक कारणों से हुई। उपर्युक्त मामला में कई अन्य लोगों से पूछताछ की जा रही है। बताया जाता हैं कि 2 दिसंबर 2022 की शाम प्रॉपर्टी डीलर राजेश श्रीवास्तव की हत्या महात्मा गाँधी मार्ग स्थित उनके चुनावी कार्यालय से घर लौटने के क्रम में कार्यालय के सामने कर दी गई। राजेश श्रीवास्तव पर हत्यारों ने पांच राउंड गोली चलाया, कुछ सेकेण्ड के अंतराल पर दो चक्र गोली चली। उसके बाद तत्क्षण राजेश श्रीवास्तव व एक अन्य व्यक्ति को अनुमंडलीय अस्पताल नरकटियागंज पहुंचाया गया, जहां से चिकित्सकों ने राजेश श्रीवास्तव को जीएमसीएच बेतिया रेफर कर दिया। उस दौरान प्रॉपर्टी डीलर की मौत की पुष्टि जीएमसीएच के चिकित्सकों ने कर दिया। 

राजेश हत्याकाण्ड का सीसीटीवी फुटेज भी आया

प्रॉपर्टी डीलर राजेश श्रीवास्तव हत्याकाण्ड का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया। जिसमें दो नकाबपोश हत्यारे बाइक से आते हैं और राजेश श्रीवास्तव की हत्या कर भागते परिलक्षित हैं। सीसीटीवी फुटेज सामने आते ही पुलिस हत्यारों की तलाश में जुट गई, सीसीटीवी फुटेज से यह पता चलता है कि राजेश श्रीवास्तव कि हत्या के समय चौक पर हत्यारे पहले से मौजूद रहे। पुलिस ने  हत्याकाण्ड में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि कई अन्य से पूछताछ की जा रही है। बेतिया पुलिस के अनुसार राजेश की हत्या राजनीतिक और व्यवसायिक कारणों से की गयी है। हालाकि प्रारम्भ में राजेश हत्या काण्ड को प्रेम प्रसंग से जोड़ कर देखा गया यह दीगर बात है। उसके बाद हरदिया गाँव से एक विवाहिता का शव उसके घर से बरामद किया है, जिसे कथित तौर पर राजेश की प्रेयसी बताया गया।  

राजेश हत्या काण्ड, फिरदौस आरोपी

पुलिस सूत्रों की माने तो राजेश हत्याकांड में कुख्यात फिरदौस अख्तर और मोनू शर्मा का नाम भी सामने आ रहा हैं। उनके विरुद्ध मृतक की तरफ से प्राथमिकी दर्ज की गई है, अलबत्ता नामजदों की गिरफ्तारी अभी नहीं हो सकी है। उल्लेखनीय हैं कि 25 जून 2022 को बिहार के शिकारपुर थाना के हिस्ट्रीशीटर व मोस्टवांटेड और यूपी के लखनउ का प्रॉपर्टी डीलर और बिल्डर गोरख ठाकुर उर्फ वीरेंद्र की हत्या लखनउ कैंट क्षेत्र स्थित उसके घर में घुसकर दिन दहाड़े गोली मार कर दी गई। जिसका आरोप फिरदौस अख्तर पर लगा, उसी समय से फिरदौस सुर्ख़ियों में बना रहा है। राजेश श्रीवास्तव हत्या कांड में फ़िरदौस का नाम जुड़ने से नरकटियागंज के व्यवसायियों में दहशत का माहौल हो बना है।

Spread the love

By Awadhesh Sharma

न्यूज एन व्यूज फॉर नेशन

Leave a Reply