Sat. Jan 28th, 2023

श्रीराम भक्त हनुमान को कलियुग का देवता भी कहा गया है। मान्यता है कि हनुमान आज भी धरती पर मौजूद हैं और जहां भी राम कथा का आयोजन होता है, वे वहां पहुंच जाते हैं। यही कारण है कि राम कथा की जगह पर एक स्थान खाली छोड़ा जाता है। आज हम आपको मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में मौजूद एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जो बेहद खास है। इस मंदिर की खास बात ये है कि हनुमान जी यहां विश्राम अवस्था में विराजमान हैं। ये जामसांवली मंदिर  के नाम से प्रसिद्ध है।

नागपुर से छिंदवाड़ा रोड पर जामसांवली नामक एक छोटी सी जगह है, जो एक लेटे हुए हनुमान के मंदिर के लिए प्रसिद्ध है जिसे ‘स्वयंभू’ यानी स्वयं निर्मित माना जाता है। कोई नहीं बता सकता कि मूर्ति कितनी पुरानी है – लोगों का मानना ​​है कि भगवान हनुमान की सोने की अद्भुत स्थिति पीपल की जड़ों से स्व-निर्मित है। जामसांवली मंदिर एक वन क्षेत्र में स्थित है, जो अब अधिक घने जंगल नहीं है, लेकिन कभी औषधीय पौधों से भरा हुआ माना जाता था। एक कहावत है कि भगवान राम पीपल के पेड़ की भूमिका में खड़े हैं और भगवान हनुमान उनके पैरों पर सो रहे हैं। भगवान हनुमान का ‘रूप’ भले ही प्राचीन हो लेकिन इसके चारों ओर लगभग 2 दशक पहले एक भव्य मंदिर का निर्माण किया गया था। मंदिर को नियंत्रित करने वाले ट्रस्ट में सरकार शामिल है। स्थानीय कलेक्टर जैसे अधिकारी।

Spread the love

Leave a Reply