Sat. Feb 4th, 2023

दुर्ग जिले में बच्चा चोरी की अफवाह फैलाकर तीन साधुओं की पिटाई करने के बाद अब एक मानसिक रोगी को पीटने का वीडियो वायरल हुआ है। मामला उतई थाना क्षेत्र के मचांदुर चौकी अंतर्गत घोपली डी पारा गांव का है। यहां कुछ युवक मानसिक रोगी को दौड़ा-दौड़ा कर पीट रहे हैं। इतना सब हो जाने के बाद भी पुलिस मामला दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार करने की जगह मामले को दबाने में लगी हुई है।​​​ मचांदुर चौकी प्रभारी श्याम सिंह नेताम ने बताया कि गुरुवार शाम 5 बजे के करीब उन्हें सूचना मिली थी घोपली डी पारा गांव में कुछ लोग युवक को पीट रहे हैं। जब पुलिस वहां पहुंची पता चला कि कुछ लोगों ने बच्चा चोरी का आरोप लगाकर एक मानसिक रूप से विक्षिप्त की पिटाई कर दी है। इसके बाद पुलिस विक्षिप्त को गाड़ी में बैठाकर अस्पताल लाई और उसका मुलाहिजा करवाया। विक्षिप्त को अभी भी चौकी में रखा गया है। पुलिस ने मामले को पूरी तरह से दबाकर उस पर कार्रवाई करने की जगह विक्षिप्त को जिला अस्पताल दुर्ग भेज रही है। इसके बाद उसे राज्य मानसिक चिकित्सालय सेंदरी बिलासपुर भेजा जाएगा। इस मामले में दुर्ग कलेक्टर पुष्पेंद्र मीणा का कहना है कि यह बहुत गंभीर मामला है। इसकी जानकारी ली जाएगी और आरोपियों पर कार्रवाई की जाएगी।

इस मामले में उतई थाना प्रभारी नवी मोनिका पाण्डेय का कहना है कि मारपीट की किसी ने शिकायत नहीं की तो पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। जबकि घायल विक्षिप्त की मानसिक स्थिति इतनी खराब है कि वह पुलिस क्या होती यह तक नहीं जानता। माता पिता का नाम पूछने पर वह भोले, शंकर और पर्वती, दुर्गा का नाम लेता है। खाना देने पूरा खाना जमीन में फैला देता है और मात्र एक दो निवाला भोजन ही खाता है। ऐसे व्यक्ति की पिटाई के मामले को दबाते हुए पुलिस यह कह रही है कि जब कोई शिकायत आएगी तभी पुलिस कार्रवाई करेगी।
साधुओं की पिटाई के मामले को भी पुलिस ने दबाया
भिलाई तीन थाना पुलिस ने भी चरोदा क्षेत्र तीन साधुओं की पिटाई के मामले को भी दबाने का प्रयास किया था। जब मामला शोसल मीडिया में आया तो दुर्ग एसपी को इस पर संज्ञान लेना पड़ा और 48 घंटे से अधिक समय बीत जाने के बाद पुलिस मात्र 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर पाई है।

Spread the love

Leave a Reply