Fri. Mar 1st, 2024

बेतिया : गन्ना मूल्य 400 रुपया प्रति क्विंटल, लेट वेरायटी के खूंट्टी (रैटून) का गन्ना चलान निर्गत करने, घटतौली पर रोक व गन्ना आपूर्ति की शेष राशि भुगतान, मिलों के गेट पर किसानों की देख-रेख में धर्मकांटा लगाने, गन्नासेस की कटौती वापस लेने और गन्नासेस की राशि बढ़ाकर 03 रुपये प्रति किवंटल करने की मांग सम्बंधी स्मार पत्र राज्य के गन्ना मंत्री को दिया। उपर्युक्त जानकारी अखिल भारतीय किसान महासभा व बिहार राज्य गन्ना उत्पादक किसान महासभा के जिला अध्यक्ष सुनील कुमार राव ने विज्ञप्ति जारी कर मीडिया को दी। उन्होंने बताया है कि गन्ना पेराई सत्र 2023-24 शुरु हो चुका है। किसान विरोधी सरकार ने गन्ना मूल्य घोषित किये बिना किसानों को विवश कर चीनी मिलों गन्ना आपूर्ति करा रही है। पंजाब में गन्ना मूल्य 391, हरियाणा में 386 रुपया प्रति क्विंटल घोषित किया है। बिहार की कॉरपोरेट परस्त सरकार ने गन्ना मूल्य की घोषणा नहीं करने कृषक आक्रोशित है। किसान गन्ना मूल्य 400 रुपये प्रति क्विंटल करने की माँग कर रहे है। उन्होंने कहा गन्ना पेराई सत्र शुरु होने के बाद पहले खुट्टी (रैटून) गन्ना प्राथमिकता पूर्वक लेने का प्रावधान है, अलबत्ता लेकिन चीनी मिलें मात्र वेराईटी गन्ना चालान निर्गत कर रही है। किसानों के खेतों में लेट वेराईटी का खुट्टी गन्ना लगा हुआ है। जिसकी वजह से गेहूँ का बुआई नहीं हो रही है। जिससे किसान कोढ़ में खाज जैसी स्थिति में है। गन्ना तौल में घटतौली, प्रति ट्रेलर 5 से 7 किवंटल गन्ना चोरी चुपके चीनी मिलें काट ले रही है। इस घटतौली पर रोक के लिए गन्ना सेस की राशि से चीनी मिलों के गेट पर किसानों की देख-रेख में सरकारी धर्मकांटा लगाने की माँग किसान करते रहे है।
बिहार राज्य गन्ना किसान महासभा के जिला नेता संजय यादव ने कहा कि गन्ना मंत्री को प्रदत्त मांग पत्र में गन्ना मूल्य 400 रुपया प्रति क्विंटल घोषित करने, अगात और लेट वेराईटी का खेल बन्द करने, सभी वेराईटी के गन्ना प्रभेदों के खुट्टी गन्ना का चालान निर्गत करने का निर्देश चीनी मिलों को देने, घटतौली पर रोक, चीनी मिलों की सेस राशि से सभी चीनी मिलों के गेट पर किसानों की देख-रेख में धर्मकांटा संचालित कराने, गन्ना सेस की कटौती पर रोक लगा, इसे प्रतिक्विंटल 3 (तीन) रुपये करने की मांग की गई है।

Spread the love

By Awadhesh Sharma

न्यूज एन व्यूज फॉर नेशन

Leave a Reply