Sun. May 26th, 2024
हाईकोर्ट के आदेश पर अतिक्रमण मुक्त हुआ आर्यसमाज मंदिर मार्ग स्थित सब्जी मंडी
सब्जी व्यवसाईयों पर हाईकोर्ट के न्यायादेश पर नगर परिषद का बुलडोजर
प्रबुद्धजनों ने कहा सार्वजनिक उपयोग की भूमि पर अवैध कब्जा करने वालों पर कब होगी कार्रवाई
बेतिया: पश्चिम चम्पारण जिला के नगर परिषद नरकटियागंज स्थित रेलवे की भूमि पर अतिक्रमण का मामला हाईकोर्ट में पहुंचाने वाले गणेश प्रसाद जायसवाल के मामला में पटना उच्च न्यायालय ने न्यायादेश पारित करते हुए अप्रैल 2023 में अतिक्रमण मुक्त करने का आदेश दिया। उसके 3 महीना बाद नरकटियागंज नगर परिषद ने अतिक्रमण हटाने के सम्बंध में नगर प्रबंधक रितेश कुमार गुप्ता एवं कार्यपालक पदाधिकारी आमिर सोहैल, डीसीएलआर एवं शिकारपुर थानाध्यक्ष के साथ भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। पहले ही खुला आसमान में दुकान लगा रहे दुकानदारों ने दुकान समेट लिया। वहां सड़क पर एक भी दुकान नहीं दिखा। नगर प्रबंधक रितेश कुमार गुप्ता ने नाली के बाहर शेड बनाकर दुकान कर रहे  दुकानदारों का जेसीबी से शेड को हटाया। बताया गया है कि हाईकोर्ट के आदेश में आर्य समाज चौक से मस्जिद चौक तक सड़क की भूमि से अतिक्रमण मुक्त कराना है। न्यायालय के आदेश का पालन करते हुए रातो-रात सब्जी व्यवसाइयों ने अपनी दुकान समेट लिया और रोड को अतिक्रमण मुक्त किया। सूत्रों की माने तो यह लोग जमीन पर अपनी दुकान लगाते रहे और अपने परिवार का पालन पोषण करते रहे।  जिन्होंने सार्वजनिक उपयोग की भूमि पर अवैध स्थाई कब्जा कर अतिक्रमण किया है, उनपर सरकार कब कार्रवाई करेगी। कुछ बिचौलियों ने तहबजारी की दुकानों पर गिद्ध दृष्टि बनाए रखा हैं। कथित अवैध उगाही के लिए जबकि तह बाजारी के दुकानदार पिछले कई दशक से अपनी दुकान तहबजारी में लगा रहे हैं। सूत्रों की माने तो यह दुकान आजादी के पुर्व से बेतिया राज की भूमि पर दुकान लगाते आ रहे हैं। यह भूमि बेतिया राज की महारानी जानकी कुंवर 09 कट्ठा 10 धुर जमीन दुकान लगाने के लिए दुकानदारों को मुहैया कराया है। उस भूमि में लगभग 5 कट्ठा 10 धुर से अधिक भूमि पर कथित धनाढ्य दबंगों ने चांदी की जूती की बदौलत अवैध पक्का निर्माण कर लिया है। जिसपर सरकार एवं वरीय पदाधिकारी की नजर उस भूमि पर नहीं पड़ रही है। कुछ भूमि बेतिया राज्य खास महाल के नाम पर दुकानदारों को आवंटित किया गया। जिस दुकानदारों ने दो से तीन मंजिला मकान निर्माण कर लिया और पदाधिकारियों का ध्यान उसपर नहीं गया। कतिपय बिचौलियों ने छोटे दुकानदारों को अवैध उगाही के लिए टारगेट किया जा रहा है। इस पर वरीय पदाधिकारी जांच कर पक्का निर्माण करने वाले अतिक्रमणकारियों से  तहबाजारी की भूमि को मुक्त कराये। जिसे बाजार पहले की तरह सज धज कर तैयार हो जाए।

Spread the love

By Awadhesh Sharma

न्यूज एन व्यूज फॉर नेशन

Leave a Reply