Fri. Apr 12th, 2024

पीएचई विभाग के अधिकारियों नें बताया कि वे हर 15 दिन में ब्लाँक वार भूजल स्तर का रिपोर्ट तैयार करते है। हर ब्लाँक के कुछ चुनिंदा गांव है व स्थान है। जहा सें वाटर लेबल की जांच की जाती है। कि कितना भूजल स्तर धमधा ब्लाँक में 16 और पाटन में 11 मीटर तक भूजल स्तर गिरा है। इसलिए समस्या है।

शासन को प्रस्ताव भेजा स्वीकृति मिलते ही काम होगा
गर्मी के इस सीजन में दुर्ग जिले के गांव में जल संकट की समस्या को दूर करने के लिए लोगों को पर्याप्त पानी देने के लिए पूरे लिए जिले के गांवों का सर्वे कराया गया है। इसके आधार पर रिपोर्ट तैयार कर प्रस्ताव बना है। 577 लाख का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा गया है।

Spread the love

Leave a Reply