Mon. May 27th, 2024

होटल में लड़कियों व किशोरियों को जिस्मफरोशी के लिए सजाया जाता रहा

होटल मालिक, दलाल, काॅलेज के दो छात्र, एक महिला व दो किशोरी गिरफ्तार

बेतिया के एनएच 727 मार्ग स्थित होटल में जिस्मफरोशी का बेतिया पुलिस ने किया उद्भेदन
बेतिया के एनएच 727 मार्ग स्थित होटल में जिस्मफरोशी का बेतिया पुलिस ने किया उद्भेदन

बेतिया: पश्चिम चम्पारण जिला अंतर्गत बेतिया पुलिस अधीक्षक उपेंद्रनाथ वर्मा के निर्देश पर बेतिया पुलिस ने कार्रवाई करते हुए। सेक्स रैकेट का उद्भेदन किया। छापामारी के पूर्व कोई सूचना लीक नहीं हो, इसके दृष्टिगत एसपी ने छापामारी टीम को छापा स्थल की भनक तक नहीं लगने दिया। कई माह से एनएच पर स्थित नारायण गेस्ट हाउस में जिस्मफरोशी का धंधा धड़ल्ले से संचालित रहा। सूत्र बताते हैं कि पुलिस की गोपनीयता के बावजूद छापामारी के पूर्व होटल कई युवतियाँ वहां से निकल गई।
बेतिया मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के बेतिया-मोतिहारी एनएच 727 में पिपरा चौक से आगे आरएल इंटरनेशनल स्कूल से पुरब पेट्रोल पंप के पास नारायण गेस्ट हाउस में जिस्मफरोशी का धंधा का उद्भेदन बेतिया पुलिस की छापामारी में हुआ है। होटल में नाटकीय ढंग से छापामारी करते हुए पुलिस ने होटल मालिक, एक दलाल, काॅलेज के 2 छात्र, एक महिला कारोबारी और दो किशोरी समेत कुल 7 को गिरफ्तार किया है। मिली खबर के अनुसार आवासीय होटल नारायणी में जिस्मफरोशी का धंधा वर्षो से चलता आया है। जिसकी भनक कभी पुलिस को नहीं लग पाई। सूत्रों के अनुसार उपर्युक्त होटल जिस्मफरोशी के धंधे के कारण ही संचालित है। बेतिया मोतिहारी राष्ट्रीय राज मार्ग पर होने के कारण हवस की चाह रखने वाले ग्राहकों के लिए सुरक्षित रहा, जिसके कारण शहरों से लेकर आस पास के युवा यौनेच्छा की पूर्ति आसानी से लेते रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक एक से बढ़कर एक बड़े घरों की महिला व लड़कियाँ भी धंधे में आती जाती हैं। जिसके लिए स्त्री पुरुष दोनों ही दलाल का बड़ा रैकेट इस होटल से जुड़ा रहा है। सूत्रों के अनुसार जैसे किसी होटल में जाकर कमरा व खाना बुक और ऑर्डर किया जाता है, वैसे ही जिस्म बुक और ऑर्डर किया जाता रहा है। सबसे बड़ी बात है कि ना सिर्फ रात बल्कि दिन की भी बुकिंग होती रही है। हालाकि इस पूरे मामले का पर्दाफाश तब हुआ जब वहां एक पत्रकार से ग्राहक समझ कर अनजाने में 500 रुपए में रातभर के लिए पेशकश कर दिया गया, तब जाकर होटल की सच्चाई सामने आ गई। उधर मंगलवार को पुलिस अधीक्षक उपेन्द्रनाथ वर्मा को भी सूचना मिली की होटल में कई ग्राहक और लड़कियाँ जिस्मफरोशी के लिए एकत्र हुए हैं। जिसके पश्चात उन्होंने अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सदर मुकुल परिमल पांडेय के नेतृत्व में एक टीम गठित किया, उस टीम को यह भनक तक नहीं होने दिया कि आखिर छापामारी करनी कहाँ है? सिर्फ गाड़ियों का काफिला मुफ्फसिल थाना से एकत्र होकर बेतिया मोतिहारी सड़क मार्ग पर चल पड़ा। जिसके पश्चात अचानक अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सदर की गाड़ी पिपरा चौक नारायणी गेस्ट हाउस के पास रुकी और नाट्किय ढंग से अचानक से छापामारी करने की घेराबंदी करवा दिया। जिससे होटल वालों और पदाधिकारियों को समझने तक का मौका नहीं मिला। परिणाम स्वरुप कोई भाग ना सका और पुलिस ने सेक्स रैकेट का उद्भेदन कर दिया। होटल के दो अलग अलग कमरों से दो किशोरी और काॅलेज के 2 छात्रों को गिरफ्तार किया गया। लौरिया का कथित दलाल मंटू गुप्ता, एक महिला कारोबारी और होटल के मालिक नारायण साह (पूर्व मुखिया) को वहां से गिरफ्तार कर लिया। सबसे बड़ी बात है कि होटल मालिक गिरफ्तारी के समय अपने को होटल का गार्ड होने का परिचय देता रहा, अलबत्ता पुलिस की सख्ती और पूछताछ के बाद नाम और होटल का मालिक होना स्वीकार कर लिया। मंटू गुप्ता किसी से भेंट करने की बात करता रहा। एक छात्र ने एक काॅलेज का एडमिट कार्ड दिखा कर परीक्षा देने की बात कही,तो दूसरे ने उल्टी होने के कारण होटल में आने की बात कही। महिला कारोबारी ने तो घबराहट में चाय बेचने की कह दी। सबके जवाब उनको संदेह में लाने के लिए पर्याप्त रहा और पुलिस ने सबको गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने होटल मालिक नारायण प्रसाद साह तथाकथित दलाल मंटू गुप्ता एवं एक अधेड़ कारोबारी महिला 3 लोगों को गिरफ्तार कर न्यायालय को सौंप दिया। अन्य लोगों से पूछताछ कर तथा जांच पड़ताल के बाद छोड़ दिया है । होटल संचालक की छापामारी व गिरफ्तारी की खबर सफेदपोशों में जंगल में आग के समान फैल गई। जिसके पश्चात होटल मालिक को छुड़ाने की जोर आजमाइश भी प्रारम्भ कर दिया। बेतिया पुलिस की अचानक से हुई, कारवाई से जिस्मफरोशी के धंधेबाजों में भय और बेचैनी बढ़ गई है। सूत्रों के अनुसार जिला के कई नगर व ग्रामीण क्षेत्र में जिस्मफरोशी (देह व्यापार) का धंधा धड़ल्ले से संचालित है। जिससे आम व सभ्य समाज के लोग त्रस्त हैं। समाजिक पत्तन होने की संभावना बढ़ती जा रही है। ऐसे में गणमान्य सामाजिक लोगों ने पुलिस को ऐसे जगहों को चिन्हित कर कार्रवाई की मांग भी किया है। छापामारी टीम में मुफ्फसिल थानाध्यक्ष राकेश कुमार भास्कर, योगापट्टी अंचल के पुलिस निरीक्षक उग्र नाथ झा, महिला थानाध्यक्ष राणा रणविजय कुमार, महिला थाना की अवर निरीक्षक सुधा कुमारी, मुफ्फसिल थाना के अवर निरीक्षक देवेन्द्र कुमार, अनिरुद्ध पंडित, सहायक अवर निरीक्षक पंकज सिंह के साथ दर्जनों सशस्त्र पुलिस जवान शामिल रहें।

Spread the love

By Awadhesh Sharma

न्यूज एन व्यूज फॉर नेशन

Leave a Reply