Sat. Jan 28th, 2023

दुर्ग जिला में ट्रैफिक सुरक्षा सप्ताह के दौरान सिर्फ लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जिम्मेदार अधिकारियों को खुद की जिम्मेदारी का जरा सा भी ध्यान नहीं रखता है। उनके इसी लापरवाही के चलते एक युवा वकील आयुष मिश्रा के सड़क दुर्घटना में मौत हो गई आयुष नेहरू नगर ओबा ब्रिज से होकर अपने घर जा रहा था। ओबा ब्रिज की लाइटें खराब होने से वहां अंधेरा था। इससे उसकी बाइक डिवाइडर से टकरा गया । आयुष काफी देर तक वहीं अंधेरा में तड़पता रहा पढ़ा । जब तक परिजन वहां पहुंचे उसकी मौत हो चुकी थी।

आयुष को काफी गहरी चोटें आया और वह बेहोश हो गया। उसने किसी तरह अपने घर में फोन लगाकर दुर्घटना की जानकारी दी। ब्रिज के ऊपर की लाइट खराब होने से वहां इतना अंधेरा था कि किसी ने भी आयुष को घायल हालत में नहीं देखा और जब तक पुलिस और घर वाले वहां पहुंचे आयुष की मौत हो गया था । अस्पताल पहुंचाने पर डॉक्टरों ने उसे मृतु घोषित कर दिया।आयुष के चाचा राकेश मिश्रा ने बताया कि आयुष ने लॉ किया था। जज बनने की तैयारी कर रहा था। वह पढ़ाई में ही ध्यान दे रहा था। वह सिविक सेंटर में लगे एक्सपो को देखने गया था। वहां से लौटने के दौरान उसकी मौत हुई है सुपेला थाना प्रभारी दुर्गेश शर्मा ने बताया कि रविवार रात आयुष मिश्रा पिता अनिल कुमार मिश्रा (25 साल) कान्हा पार्क विवेकानंद नगर कोहका का रहने वाला था। वह पेशे से वकील था।

Spread the love

Leave a Reply