Sun. Nov 27th, 2022

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को यह कहकर नए बहस को जन्म दे दिया कि भारतीय करेंसी पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ लक्ष्मी और गणेश की तस्वीर भी होनी चाहिए। दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को यह कहकर नए बहस को जन्म दे दिया कि भारतीय करेंसी पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ लक्ष्मी और गणेश की तस्वीर भी होनी चाहिए। दिल्ली के सीएम की ओर से की गई इस मांग पर अब तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) समेत अन्य दलों के नेताओं ने जहां इसे गुजरात चुनाव से जोड़ा है तो वहीं कांग्रेस के नेता और दिल्ली से सांसद रह चुके उदित राज ने इसमें सबसे अलग एंगल खोजा है। उदित राज ने दावा किया है कि केजरीवाल ने यह बयान मल्लिकार्जुन खड़गे के कांग्रेस अध्यक्ष बनने की खबरों को दबाने के लिए दिया। उन्होंने यह भी कहा कि केजरीवाल इसमें सफल भी रहे।

2014 में भाजपा के टिकट पर उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट से संसद पहुंचे दलित नेता ने केजरीवाल के सुझाव पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। हालांकि, इनमें से सबसे अधिक चर्चा उस ट्वीट की हो रही है, जिसमें उन्होंने इस मुद्दे को खड़गे से जोड़ा। उन्होंने ट्वीट किया, ”अरविंद केजरीवाल जी ने जान बूझकर आज बयान दिया ताकि मल्लिकार्जुन खरगे जी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर खबर दब जाए और ऐसा हुआ भी।” एक अन्य ट्वीट में उदित राज ने लिखा, ”बहुजनों केजरीवाल से सावधान! नोटों से अशोक की लाट के स्थान पर लक्ष्मी व गणेश की फोटो लगाने की बात कहा है। यह व्यक्ति दलित और संविधान विरोधी है।” उन्होंने यह भी कहा कि आप और बीजेपी में कौन ज्यादा हिन्दुत्ववादी है, होड़ लग गई है ताकि बहुसंख्यक वोट इनमे बट जाए। सभी एससी/एसटी/ओबीसी/अल्पसंख्यक और धर्मनिरपेक्ष ताकतें सावधान हो जाएं। उदित राज ने एक और ट्वीट में केजरीवाल से सवाल किया, ”केजरीवाल जी आपको भाव आया कि भारत की मुद्रा पर लक्ष्मी व गणेश की फोटो लगना चाहिए। आपको गुरु नानक, डॉ अंबेडकर, भगत सिंह , बुद्ध, मां दुर्गा, राम, कृष्ण, शिव, छठ मईया, वैष्णो देवी, पेरियार आदि के लिए  भाव क्यों नही जगा?”

Spread the love

Leave a Reply