Fri. Dec 2nd, 2022

भाईदूज के दिन बहुत से भाई अपनी विवाहित बहनों के घर जाकर तिलक लगवाते हैं. मान्यताओं के अनुसार इस दिन बहनों को अपने भाइयों को तिलक करने के बाद ही भोजन परोसना चाहिए. हमारे देश के अलग-अलग क्षेत्रों में भाईदूज अलग- धनतेरस के पांचवें दिन यम द्वितीया, जिसे हम भाई दूज के नाम से जानते हैं, मनाई जाती है. यह पर्व रक्षाबंधन की तरह भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का प्रतीक है. भाई दूज पर भाई अपनी विवाहित बहनों के घर तिलक करवाने जाते हैं. भाई दूज कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाई जाती है. हिन्दू धर्म में भाई दूज का त्योहार विशेष महत्व रखता है. भाई दूज का त्योहार भाई-बहन के बीच सद्भावना और प्रेम को प्रदर्शित करता है. अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरह से भाई दूज का त्योहार मनाया जाता है. आइए जानते हैं भोपाल निवासी यहां पर भाई दूज को भाई फोटा पर्व के नाम से जानते हैं. इस दिन बहनें अपने भाइयों के लिए उपवास रखतीं हैं और भाई को तिलक लगाने के बाद ही भोजन ग्रहण करती हैं. पश्चिम बंगाल में इस त्योहार को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. भाई अपनी बहनों से तिलक करवाने के बाद उन्हें अनेकों प्रकार के उपहार देते हैं.

Spread the love

Leave a Reply