Fri. Dec 2nd, 2022

भिलाई. सेल प्रबंधन के अडिय़ल रवैए के खिलाफ बुधवार को संयुक्त यूनियन ने बोरिया गेट पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान इंटक, सीटू, एटक, एचएमएस, एक्टू, स्टील वर्कर्स यूनियन, इस्पात श्रमिक मंच और लोईमू के पदाधिकारी शामिल हुए। बोरिया गेट को जाम करने से कर्मचारी मेनगेट से भीतर चले गए। भीतर जाकर वाट्स एप में जो आंदोलन कर रहे थे, उनको यह ज्ञान देने लगे कि मेनगेट भी बंद करना था। अहम बात यह है कि जब तक कर्मचारी खुद आंदोलन का हिस्सा नहीं बनता, तब तक प्रबंधन उनकी मांगों को हाथों-हाथ मानने वाली है नहीं। इस आंदोलन से प्रतिनिधि यूनियन बीएमएस ने पहले ही दूरी बना ली।

प्रदर्शनकारियों ने किया यह मांग
प्रदर्शनकारियों का कहना था कि स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिलेड (सेल) प्रबंधन ने बोनस के लिए 19 व 24 सितंबर 2022 को 2 बैठके बुलाई। जिसका कोई नतीजा नहीं निकला। यूनियने संयुक्त रूप से 63,000 बोनस देने की मांग कर रही थी। वहीं मैनेजमेंट ने पिछले साल के 21,000 से बातचीत शुरू की। 2 दिन की बैठक में जहां यूनियनों ने 18,000 कम करते हुए 45,000 पर आकर अड़ गए। वहीं प्रबंधन ने सिर्फ 5,000 बढ़ाते हुए 26,000 बोनस देने की पेशकश की जो कि कर्मियों के साथ एक मजाक ही है।

सेल को हुआ बड़ा लाभ
यूनियन नेताओं ने बताया कि वित्त वर्ष 2020-21 में सरकार को दिए जाने वाले कर को चुकाने के बाद सेल ने 3,850 करोड रुपए लाभ कमाया था। वहीं वित्त वर्ष 2021-22 में सरकार को दिए जाने वाले कर को चुकाने के उपरांत सेल ने 12,015 करोड़ रुपए लाभ कमाया है। यूनियन के पदाधिकारी चाहते हैं कि उस लाभ का करीब 3 फीसदी रकम सेल के कर्मियों को बतौर बोनस दिया जाए। सेल केे 50 हजार कर्मचारी त्योहार से पहले यह रकम चाहते हैं उनके खातों में पहुंचे। सेल प्रबंधन इसके लिए तैयार नहीं है।

Spread the love

Leave a Reply