Sat. Feb 4th, 2023

शिल्पों की नगरी कहे जाने वाले कोंडागाव मे शिल्पो को एक नई पहचान दिलाने के उदेश्य से उड़ान कंपनी द्वारा महिला स्व सहायता समूहों को आदिम जनजातीय परंपरा के अनुरुप उन्हें नवीन कलाओं के साथ मिश्रित कर श्रीगार ट्राइबल ज्वेलरी के नाम से विक्रय किया जा रहा है। ये अपने आप मे ही आदिम कला के विकास को दर्शाने वाली चित्र को प्रदर्शित करते हैं। इसके लिए जिले के 40 शिल्पियों को 48 दिनों का बेल मेटल और लौह शिल्प का प्रशिक्षण दिया गया है। इसके विभिन्ना ड़िजाइनों के कैटलाँग का विमोचन सांसद राहुल गांधी द्वारा अपने छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ किया था। रायपुर मे लगे पांच दिवसीय राज्य स्तरीय मेले मे अलग ही उत्साह देखा गया। अब तक 1.50 लाख के ऐसे आभूषणों को भारत के अन्य राज्यो के साथ साथ दुबई मे बेचा गया हैं।

Spread the love

Leave a Reply