Mon. Jul 15th, 2024

बोरसी भाठा में गुरु सतनाम रावटी के धर्मसभा में गुरुद्वारा भंडारपुरी धाम सें आए बाबा गुरुघासीदास के छठवें वंशज धर्मगुरु नसी साहेब ने गुरुवाणी में बताया की संसार में जहां भी सतपुरुष पिता की शाश्वत कृपा हुई हुए है। वहां काम क्रोध लोभ मोह अहंकार घृणा आदि विकारो का कोई स्थान नही रहा है। उस जगह पर सत्य अहिसा दया करुणा परोपकार ही विद्यमान रहता है।

गिरौदपुरीधाम में जब सरकारी अमले ने लोगो और जीव जंतुओ के लिए शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के सैकडों जतन किए पर सफल नही मिली तों सभी की समस्याओ को ध्यान में रखकर बाबा गुरु घासीदास ने अपने अलौकिक शक्ति से वहां संजीवनी शक्ति युक्त कभी खत्म न होने वाले अक्षय अमृतकुंड को प्रकट किया।

Spread the love

Leave a Reply