Sat. Jan 28th, 2023

इंद्रावती विकास प्राधिकरण के गठन के साथ ही अब इंद्रावती नदी कों बचााने के लिए प्रयास शुरु कर दिया गया है। मंगलवार को पहली बार शासन प्रशासन के लोग एक साथ समस्या के समाधान के लिए जोर नाला पहुंचे। इंद्रावती विकास प्राधिकरण में नियुक्ति के 48 घंटे के अंदर ही उपाध्यक्ष राजीव शर्मा जोर नाला पहुचा और जायजा लिया राजीव शर्मा ने कहा कि पानी के लिए ओड़िशा सरकार से लड़ाई के साथ ही स्थानीय स्तर पर भी प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि अफसरों को एक महीना के बाद पानी का प्रवाह कम होने पर पुनः पानी के प्रवाह का माप लेने का निर्देश दिया है।

इसके अलावा विगत 5 वर्षो में इंद्रावती नही और जोरा नाले में जलप्रवाह की जानकारी प्रधिकरण के समक्ष रखने के निर्देश दिए उन्होंने बताया जोरा नाले पर बने स्ट्रक्चर को देखनें पहुंचे प्राधिकरण के उपाध्यक्ष राजीव शर्मा के साथ बस्तर कमिश्नर श्याम धावड़े और कलेक्टर चंदन कुमार भी मौजूद थें ऐसा पहली बार था जब दोनो अफसर जोरा नाले का स्ट्रक्चर देखने आए जोरा नाले तक पहुंचने के लिए सड़क नही है। एसें में करीब 3 किलोमीटर खेतो की पंगडंडी सें पैदल चलकर सभी जोरा नाला तक पहुंचे। इस दौरान इनके साथ उपायुक्त बीएस सिंदार इंद्रावती परियोजना मंडल के केएस भंड़ारी जल संसाधन विभाग के कार्यपाल अभियंता आरके रिछारिया भी मौजूद थे। कि अभी अफसरो सें इंद्रावती में बने स्टाप डैम और अन्य निर्माणों की जानकारी ली जा रही है। और कुछ जगह पर नए स्टाप डैम बनाने के लिए प्लानिंग बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इंद्रावती में सालभर पानी भरा रहे इसके लिए हर स्तर पर काम किया जाएगा

Spread the love

Leave a Reply