Thu. Dec 1st, 2022

जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति सुधीर कुमार जैन ने कहा कि वह एनएसई के दो पूर्व अधिकारियों को वैधानिक जमानत दे रहे हैं। देश के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज में हुई गड़बड़ी के इस मामले में मई 2018 में प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को सीबीआई  की ओर से जांच की जा रही को-लोकेशन घोटाला मामले में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की पूर्व प्रमुख चित्रा रामकृष्ण और पूर्व समूह संचालन अधिकारी आनंद सुब्रमण्यम को जमानत दे दी है। जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति सुधीर कुमार जैन ने कहा कि वह एनएसई के दो पूर्व अधिकारियों को वैधानिक जमानत दे रहे हैं। आदेश की विस्तृत प्रति का इंतजार है। देश के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज में हुई गड़बड़ी के इस मामले में मई 2018 में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। सीबीआई इस मामले में मार्केट एक्सचेंजों के कंप्यूटर सर्वर से स्टॉक ब्रोकरों तक सूचना के कथित अनुचित प्रसार की जांच कर रही है। सुब्रमण्यम को इस मामले में 24 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। उसके बाद छह मार्च को इस मामले में सीबीआई ने चित्रा रामकृष्ण को भी गिरफ्तार कर लिया था। इस मामले में सुब्रमण्यम की ओर से दायर जमानत याचिका पर अपनी स्टेटस रिपोर्ट  में सीबीआई ने कोर्ट को बताया है कि मामले की  जांच ने स्थापित किया है कि सह-आरोपी रामकृष्ण ने एनएसई में अपने आधिकारिक पद का दुरुपयोग करते हुए सुब्रमण्यम को अवैध रूप से मुख्य रणनीतिक सलाहकार के रूप में नियुक्त किया और मनमाने ढंग से और अनुपातहीन रूप से अपने लाभ में वृद्धि की। इसके अलावे उन्हें दोबारा से अपेक्षित अनुमोदन के बिना समूह संचालन अधिकारी के रूप में नामित कर दिया गया।

वहीं, प्रवर्तन निदेशालय से जुड़े मामले में चित्रा रामकृष्ण की ओर से दाखिल जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाइकोर्ट ने ईडी से जवाब मांगा है। बता दें कि ईडी एनएसई की पूर्व एमडी और सीईओ के खिलाफ फोन टैपिंग प्रकरण से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले की जांच कर रही है। दिल्ली हाईकोर्ट के जज जसमीट सिंह ने चित्रा रामकृष्ण की ओर से दाखिल जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए जांच एजेंसी को जवाब दाखिल करने का समय दिया है। रामकृष्ण की ओर से कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्कता रेबेका जॉन ने पक्ष रखा।  बता दें कि चित्रा रामकृष्ण को सीबीआई ने मई 2018 में दर्ज को-लोकेशन स्कैम मामले में बीते छह मार्च को गिरफ्तार किया था। इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट से चित्रा रामकृष्ण को आज ही जमानत मिली है। वहीं ईडी ने फोन टैपिंग केस में एनएसई की पूर्व प्रमुख को 14 जुलाई को गिरफ्तार किया था। इस मामले में अगली सुनवाई 28 अक्तूबर को होगी।

Spread the love

Leave a Reply