Fri. Dec 2nd, 2022

जयपुर. उदयपुर में वीभत्स हत्या के शिकार हुये टेलर कन्हैयालाल को मिली धमकियों पर पुलिस कार्रवाई नहीं होने के मामले में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर एचएस घुमारिया ने बड़ा खुलासा किया है. घुमारिया ने बताया कि कन्हैयालाल के खिलाफ 10 जून को धार्मिक विषय से जुड़ी आपत्तिजनक टिप्पणी प्रचारित करने का मामला दर्ज कराया गया था. इस मामले में हुई पुलिस कार्रवाई के बाद जब कन्हैयालाल जमानत पर छूटा तो उसको मिली धमकियों के मद्देनजर उसने अपनी जान का खतरा बताते हुये पुलिस से संरक्षण मांगा था. घुमारिया ने बताया कि उसके तत्काल बाद एक्शन लेते हुए एसएचओ ने कन्हैयालाल और जो उन्हें धमकी दे रहे थे दोनों पक्ष से बातचीत कर हस्ताक्षर करवाया कि हम दोनों के बीच जो भी मन मुटाव था वो दूर हो गया है. उसके बाद एक लिखित रिपोर्ट भी दी गई जिसके बाद पुलिस ने आगे कोई कार्रवाई नहीं की. घटनाक्रम के बाद पुलिस विभाग ने उदयपुर की धानमंडी के एएसआई भंवरलाल को सस्पेंड कर दिया है.उल्लेखनीय है कि उसके बाद मंगलवार को कन्हैयालाल की दोपहर में दिनदहाड़े उसकी दुकान में घुसकर बेरहमी से हत्या कर दी गई. कन्हैयालाल की हत्या के बाद उदयपुर में तनाव फैल गया और वहां बवाल मच गया. लोग सड़कों पर आ गये. हालात देखकर पुलिस-प्रशासन के हाथ पांव फूल गये. बाद घटनाक्रम को लेकर हुई उच्चस्तरीय बैठकों के बाद प्रदेशभर में धारा-144 लागू करके 24 घंटों के लिये इंटरनेट सेवायें बंद कर दी गई

Spread the love

Leave a Reply