Sun. Nov 27th, 2022

23 अगस्त को घर में सो रही अंकिता को सिरफिरे शाहरुख ने पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी थी। अंकिता की मौत के बाद से झारखंड के कई शहरों में तनाव है। विपक्ष मामले में हेमंत सोरेन सरकार पर तुष्टिकरण का आरोप लगा रहा है। दुमका डीएसपी मामले में सवालों के घेरे में हैं।

झारखंड के दुमका जिले में एक युवती को जिंदा जला दिया गया। मामला एकतरफा प्यार का है। युवती का पांच दिन से इलाज चल रहा था। शनिवार देर रात 90 प्रतिशत जली युवती ने दम तोड़ दिया। 23 अगस्त को घर में सो रही युवती को सिरफिरे ने पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी थी। युवती की मौत के बाद से झारखंड के कई शहरों में तनाव है। 

आखिर ये पूरा मामला क्या है? आरोपी इस वक्त कहां हैं? विपक्ष मामले में हेमंत सोरेन सरकार पर तुष्टिकरण का आरोप क्यों लगा रहा है? सरकार का इस मामले में क्या कहना है? दुमका डीएसपी इस मामले में सवालों के घेरे में क्यों हैं?

23 अगस्त की की बात है। 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली अंकिता अपने घर में सो रही थी। तड़के सुबह करीब पांच बजे उसी मोहल्ले में रहने वाला शाहरुख हुसैन उसके घर पहुंचा। उसने खिड़की के कांच तोड़कर अंकिता पर पेट्रोल डाला और माचिस जला कर उसे आग के हवाले कर दिया। 

घटना में गंभीर रूप से जली अंकिता को गंभीर हालत में दुमका जिले के फूलो झानो मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से प्राथमिक इलाज के बाद 23 अगस्त को ही अंकिता को रांची के रिम्स अस्पताल रेफर कर दिया गया। अंकिता के दोनों हाथ, दोनों पैर, पीठ का हिस्सा और पेट का काफी हिस्सा बुरी तरह से जल गया था। पांच दिन तक वह जिंदगी और मौत से जूझती रही। शनिवार को इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। 

Spread the love

Leave a Reply